Tech Knowledge: क्या इन्वर्टर पर भी चलता है इन्वर्टर AC? साधारण एसी से कैसे अलग, कितनी खाता है बिजली- Newsaffairs.in


हाइलाइट्स

गर्मियों के लिए लोग अभी ले एसी खरीद रहे हैं.
बाजार में इस समय कई शानादार एसी मिल रहे हैं.
ग्राहक इनवर्टर एसी और नॉन इनवर्टर एसी खरीद सकते हैं.

नई दिल्ली. गर्मियों का मौसम आने वाला है. लोग अभी से एयर कंडिशन खरीदने लगे हैं. इस समय बाजार में कई इनवर्टर एसी और नॉन इनवर्टर एसी मौजूद हैं. उल्लेखनीय कि इनवर्टर एसी का मतलब इनवर्टर एसी किसी इनवर्टर से चलते हैं. दरअसल, इन्वर्टर फ्रीक्वेंसी कन्वर्ट करने एक डिवाइस होता है. यह घर में यूज होने वाले होम एप्लायंस में इस्तेमाल किया जाता है. यह इलेक्ट्रिक वोल्टेज, करंट और फ्रीक्वेंसी को कंट्रोल करता है. इन्वर्टर एसी अपने कंप्रेशर्स की बिजली सप्लाई की फ्रीक्वेंसी को एडजस्ट करके अपनी कूलिंग कैपसिटी को बदलते हैं.

बता दें कि सभी नॉन AC में कंप्रेसर होता है जो ठंडी हवा फेंकता है. जब आप अपने एयर कंडीशनर को ऑन करते हैं तो उसके कुछ सेकंड बाद कंप्रेसर ऑन होता है. कंप्रेसर तब तक ठंडी हवा फेंकता है जब तक की आपके रूम का टेंपरेचर एसी पर सेट किए गए टेम्प्रेचर से मैच ना हो जाए. जैसे ही रूम टेंपरेचर का टारगेट अचीव होता है, कंप्रेसर अपने आप बंद हो जाता है. रूम टेंपरेचर जैसे ही ज्यादा होता है, कंप्रेसर फिर से ऑन हो जाता है.कंप्रेसर के बार-बार ऑन होने के कारण बिजली की ज्यादा खपत होती है.

यह भी पढ़ें- क्या AC के साथ पंखा चलाने से कम आता है बिजली का बिल? गर्मी से कितनी मिलती है राहत? यह रही सच्चाई…

वहीं, इनवर्टर एसी में भी कंप्रेसर होता है. कंप्रेसर के लिए सेंसर भी होता है. हालांकि, दोनो इनवर्टर एसी का कंप्रेसर कभी ऑफ नहीं होता. जैसे ही आपके रूम में टेंपरेचर का टारगेट अचीव होता है, कंप्रेसर स्लो हो जाता है. इस तरह वह लगातार रूम के टेंपरेचर को हाई होने से रोकता है. अगर रूम का टेंपरेचर हाई हो जाए, तो कंप्रेसर फिर से फुल स्पीड में काम करने लगता है. इस तरह हुआ बार-बार ऑन और ऑफ नहीं होता. यही कारण है कि इनवर्टर एसी का कंप्रेसर, ट्रेडिशनल इसी के कंप्रेसर से करीब आधी बिजली खर्च करता है.

पावर सेविंग करता है इनवर्टर एसी
अगर आपका रूम ग्राउंड फ्लोर पर है, जहां बिलकुल भी सनलाइट्स नहीं आती है, तो आपके लिए इनवर्टर एसी एक अच्छा विकल्प हो सकता है. इसके अलावा आपकी छत और दीवारे गर्म नहीं होती है और आपका रूम भी सील्ड है किसी भी प्रकार की कोई एयर लीकेज नहीं है, तो भी आप इनवर्टर एसी खरीद सकते हैं. यह आपकी 25% तक पावर सेविंग कर सकता है. वहीं, इसी कंडीशन में अगर आप एक नॉन इन्वर्टर एयर कंडीशनर खरीद लेते हैं, तो आपको कूलिंग तो अच्छी मिलेगी, लेकिन पावर सेविंग्स का कोई भी बेनिफिट्स नहीं मिलेगा.

कौन सा एसी खरीदना बेहतर
अगर आप रोजाना केवल 4 से 5 घंटे एसी इस्तेमाल करते हैं, तो आप के लिए नॉन इन्वर्टर एयर कंडीशनर बेहतर विकल्प हो सकता है. वहीं, अगर आपका यूसेज 8 से 10 घंटे का है या फिर 10 से 18 घंटे या फिर उससे भी ज़्यादा है तो फिर आपको जरूर इन्वर्टर AC लेना चाहिए.

Tags: AC, Air Conditioner, Tech news, Tech News in hindi, Technology



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *